नज़रे !

माना के आपकी नज़रो मे कुछ नही है हम,
मगर उनसे जाकर पुछो जिन्हे हासिल नही है हम।

No comments:

होशियार कौवा.