इश्क.

बगर जाने पहचाने इकरार ना किजीए
मुस्कूराकर दिल को बेकरार ना किजीए,
गुलाब भी दे जाते है जख्म गहरा कभी कभी,
हर गुलाब पर युं ऎतबार ना किजीए।

No comments:

होशियार कौवा.