राहत.

उनके आनेकि उम्मीद लगाए बैठे है,
देखो हम खुद को भुलाये बैठे है,
वो आए तो मिले दिल को राहत,
अंधेरेमे दिल को जलाए बैठे है ।

No comments:

होशियार कौवा.